behavior="scroll" height="30">हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि सम्मेलन संयोजक एवं हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि योगेन्द्र मौदगिल का हरियाणवी धमाल, हरियाणवी कविताएं, हास्य व्यंग्य को समर्पित प्रयास ( संपर्कः o9466202099 / 09896202929 )

बुधवार, 8 अक्तूबर 2008

टूटग्या टील्ला......

कुटम-कबील्ला पीसे का
इब्तो हिल्ला पीसे का

उसनै मारै सै दुनिया
वो सै ढील्ला पीसे का

देख करोड़ों का होग्या
अपणा किल्ला पीसे का

दमड़ी गई तो मरजेगा
वो मरघिल्ला पीसे का

झटका ऊप्परआले का
टूटग्या टील्ला पीसे का
--योगेन्द्र मौदगिल

6 टिप्‍पणियां:

  1. दमड़ी गई तो मरजेगा
    वो मरघिल्ला पीसे का

    तिवारी साहब का सलाम !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुटम-कबील्ला पीसे का
    इब्तो हिल्ला पीसे का

    बहुत जोरदार ! मजा आगया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिलकुल सही कहा आप ने यह दुनिया मे, पेसे कॆ यार ही मिलेगे, आप की कविता पढ कर सोच मे भी पढ ग्या ओर हंसी भी आती है.
    इस सच्चई से रुबरु करने के लिये
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. दमड़ी गई तो मरजेगा
    वो मरघिल्ला पीसे का

    हां. हां.. हां.... मर कर कहीं हमारे नर्क में आया तो ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह भाई वाह
    मस्त रहो औ खुशियां बांटों
    का करना है पैसे का

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाई योगेंदर भाई साची बात कह दी आपने तो, जमा सटीक से. बही नू ही कलम चाल्दी रहे.
    हरियाने के भाई की राम राम.

    उत्तर देंहटाएं

आप टिप्पणी अवश्य करें क्योंकि आपकी टिप्पणियां ही मेरी ऊर्जा हैं बहरहाल स्वागत और आभार भी