behavior="scroll" height="30">हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि सम्मेलन संयोजक एवं हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि योगेन्द्र मौदगिल का हरियाणवी धमाल, हरियाणवी कविताएं, हास्य व्यंग्य को समर्पित प्रयास ( संपर्कः o9466202099 / 09896202929 )

मंगलवार, 6 मई 2008

गजल

किसम किसम के लोग देस म्हं
चल्या भोग का रोग देस म्हं

चोर-लुटेरे-बे-डर हाण्डैं
राजनीत सिद्धयोग देस म्हं

भैंस नै लेग्या लाट्ठी आला
ताकत का परयोग देस म्हं

आंधा बोल्या बांट रेवड़ी
सारे अपणे लोग देस म्हं

दुख-दुरघटना-दारू-दुर्दिन
दसों दिसा दुर्योग देस म्हं

नो मण तेल ना राधा नाची
घिसे पिटे संजोग देस म्हं
---योगेन्द्र मौदगिल

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब.मज़ा आ गया, हरियाणवी पढ के.Please remove word verification.Many readers stay away from commenting even though they may be liking ur work.This is just an advice from a novice who was adviced by other bloggers 2 months back.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी लगीं आपकी रचनाएँ खास कर ताई ताऊ की नोंक झोंक वाली । हरयाणवी थोडी तो समझती हूँ पर कभी कभी मुश्किल आती है । जैसे झोट्टी के माने क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. योगेन्द्र मौदगिल राम राम, अजी हम ने कुछ वर्ष रोहतक मे बिताये हे, इस लिये हरियाणवी तो ९०% समझ मे आती हे, बाकी आज पहली बार आप के यहा आया हू तो लगता हे दोस्तो के बीच पहुच गया हु, बहुत अच्छा लगा, आप की कविताये तो अति हास्व्यंग्य से भरपुर हे,धन्यवाद.
    Mrs. Asha Joglekar जी, झोट्टी का मतलब भेंस की बेटी,पंजाबी मे उसे कट्टी कहते हे

    उत्तर देंहटाएं
  4. इला जी, धन्यवाद.
    जोगलेकर दम्पति, आपको प्रणाम. मुझे विश्वास है कि आप इस हरियाणवी प्रयास को संबल देते रहेंगें. और राज जी अब की बार जब रोहतक आना हो तो जरूर बताइयेगा. आशीष बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं

आप टिप्पणी अवश्य करें क्योंकि आपकी टिप्पणियां ही मेरी ऊर्जा हैं बहरहाल स्वागत और आभार भी