behavior="scroll" height="30">हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि सम्मेलन संयोजक एवं हिन्दी-हरियाणवी हास्व्यंग्य कवि योगेन्द्र मौदगिल का हरियाणवी धमाल, हरियाणवी कविताएं, हास्य व्यंग्य को समर्पित प्रयास ( संपर्कः o9466202099 / 09896202929 )

बुधवार, 20 अगस्त 2008

ढील्ला पड़ग्या उनका नाड़ा......

इधर सै ढफली उधर नगाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.
लुच्चों का जम गया अखाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

मंतरीपद की चौद्धर म्हं जो चौड़े-चौड़े हांडै थे,
ढील्ला पड़ग्या उनका नाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

दल-दल म्हं कितने दलबदलू टिकट खैंच कै सफल हुए,
निष्ठा का तो भाग सै माड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

चार दिनों की दारू-बांट नै दिन-धंदे बरबाद करे,
चौपाल्लों का होया कबाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

गलियों-गलियों, माइक-माइक, मंच-मंच, नेता-नेता,
रोज-रोज का होग्या खाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

मन्नै देदो वोट, मैं थारी चांदी-चांदी कर द्यूंगा,
चूहा बिल तै लिकड़ दहाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.

राजनीत इस दौर 'मौदगिल' कल्चर तै ऊंची होगी,
बिल्ली नै न्यूं शेर पछाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.
--योगेन्द्र मौदगिल

3 टिप्‍पणियां:

  1. राजनीत इस दौर 'मौदगिल' कल्चर तै ऊंची होगी,
    बिल्ली नै न्यूं शेर पछाड़ा, देख इलैक्सन का रौला.


    भाई घणा तगड़ा सिक्सर धर दिया आज त !
    मजे आगये ! ज्यूँ ज्यूँ चुणाव का रौला उठेगा
    त न्यू ऐ "बिल्ली नै न्यूं शेर पछाड़ा,"
    बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. "राजनीत इस दौर 'मौदगिल' कल्चर तै ऊंची होगी,
    बिल्ली नै न्यूं शेर पछाड़ा, देख इलैक्सन का रौला."


    सही में सिक्सेर जड़ दिया !!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ढील्ला पड़ग्या उनका नाड़ा, बिलकुल सही कहा. धन्यवाद, मेरी नजर से यह सब केसे बच गये पता नही वेसे मे ४, ५ दिन काफ़ी बिजी भी रहा घर मे, अगर यह सब ना पढता तो मुझे अफ़सोस होता कितनी सुन्दर कविताये को देता
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आप टिप्पणी अवश्य करें क्योंकि आपकी टिप्पणियां ही मेरी ऊर्जा हैं बहरहाल स्वागत और आभार भी